राजस्थान में उग्र आंदोलन कर सकता है प्रजापति समाज :: दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए दिया 7 दिन का अल्टीमेटम

सुरेश चौधरी
हैलो सरकार न्यूज़ ब्यूरो


जयपुर : राजस्थान पुलिस रक्षक से भक्षक बनाने का मामला प्रकाश में आया है। क्रोधित लोगों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम मारपीट करने वाले पुलिसकर्मियों और थाना अधिकारी को निलंबित करने का ज्ञापन सौंपा है।
गौरतलब है कि जयपुर जिले के विराटनगर मानगढ़ के पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने की मांग को लेकर कुम्हार -प्रजापति समाज ने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मानगढ़ निवासी हंसा देवी को उसके परिजनों के साथ मारपीट करने के मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर 7 सितंबर को अजीतगढ़ पुलिस थाने के बाहर धरना शुरू किया गया था। 9 सितंबर को जब धरनार्थी थाना प्रभारी को ज्ञापन देने जा रहें थे, इस दरम्यान पुलिस ने अचानक धोखे से लाठीचार्ज कर दिया।

क्रोधित लोगों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम मारपीट करने वाले पुलिसकर्मियों और थाना अधिकारी को निलंबित करने का ज्ञापन सौंपा


पुलिस पर आरोप है कि घटना के दौरान पुलिस ने महिला व पुरुषों को घसीटते हुए थाने ले जाकर मारपीट की गई। इस घटना के बाद कुम्हार समाज में आक्रोश व्याप्त है। ज्ञापन में लोगों ने थानाधिकारी सहित पुलिसकर्मियों पर मुकदमा दर्ज कर निलंबित करने की कार्रवाई की मांग की है साथ ही कहा कि उक्त मांगों पर 7 दिन में कार्रवाई नहीं की गई तो, सम्पूर्ण कुम्हार-प्रजापति समाज द्वारा प्रदेशभर में उग्र आंदोलन किया जाएगा। सरकार को इस मामले में संज्ञान लेकर उचित कार्रवाई करने की आवश्यकता है। अगर मांगे नहीं मानी गई, तो समाज के द्वारा आंदोलन किया जायेगा, जिसकी जिम्मेदारी प्रशासन की रहेगी।
अब देखना होगा कि क्या मुख्यमंत्री अशोक गहलोत दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करते है या नहीं, यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा। बहरहाल, राजस्थान के प्रजापति समाज पुलिस रवैया से काफी खफा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here