छात्र-छात्राओं में नशे की लत से परेशान है सरकार :: शीघ्र होगी एन्टी नारकोटिक्स निदेशालय की स्थापना

रवि प्रकाश जूनवाल
हैलो सरकार ब्यूरो प्रमुख


जयपुर : राजस्थान सरकार के गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री अभय कुमार की अध्यक्षता में राज्य में एन्टी नारकोटिक्स निदेशालय अथवा आयुक्तालय के गठन के संबंध में बुधवार को शासन सचिवालय में बैठक आयोजित हुई । बैठक में श्री अभय कुमार ने निर्देश दिये कि स्कूल- कॉलेजों में नशा मुक्त राजस्थान को लेकर छात्र-छात्राओं को जागरूक किया जाए। इसके लिए संबंधित विभागों को आपसी समन्वय से कार्य करते हुए निश्चित टारगेट की प्राप्ति करनी होगी। उन्होंने कहा कि ड्रग्स सेवन पर प्रभावी नियंत्रण के लिए मुख्यमंत्री की मंशा के अनुसार एन्टी नारकोटिक्स निदेशालय की स्थापना शीघ्र की जाएगी। इसमें अतिरिक्त निदेशक स्तर के अधिकारी की नियुक्ति होगी।

गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री अभय कुमार की अध्यक्षता में राज्य में एन्टी नारकोटिक्स निदेशालय अथवा आयुक्तालय के गठन के संबंध में बुधवार को शासन सचिवालय में बैठक


गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि छात्र-छात्राओं को नशे के दुष्प्रभावों से बचावे में सबसे बडी भूमिका स्कूल -कॉलेजों के प्रबंधन की है। उन्होंने कहा कि इसके लिए जागरूकता फैलायी जाए, साथ ही विद्यार्थियों को रोचक और सशक्त कंटेंट के साथ नशे की बुराइयों के बारे में बताया जाए। अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि बच्चे अपने परिवार के बाद स्कूल के वातावरण से ही सबसे अधिक प्रभावित होते हैं। अतः स्कूलों में नियमित रूप से इस संबंध में कालांश चलने चाहिए। इसके साथ ही अभिभावकों को भी इसके लिए जागरूक करना होगा। श्री अभय कुमार ने चिकित्सा एवं स्वास्थ विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि नशा मुक्त राजस्थान के लिए विभाग द्वारा साईकोलोजिस्ट नियुक्त किये जाएं जो ड्रग एडिक्ट लोगों की उचित काउंसिलिंग करे। उन्होंने निर्देश दिये कि सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूकता फैलाने में सोशल मीडिया सहित प्रिंट मीडिया में भी प्रचार-प्रसार किया जाए।

अभय कुमार ने निर्देश दिये कि स्कूल- कॉलेजों में नशा मुक्त राजस्थान को लेकर छात्र-छात्राओं को जागरूक किया जाए।

बैठक में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सचिव डॉ. समित शर्मा ने कहा कि नशे के दुष्प्रभावों के प्रचार-प्रसार और एडिक्ट लोगों के उपचार के लिए एन.जी.ओ की मदद लेनी होगी। इसके अतिरिक्त स्कूल-कॉलेजों में एक सन्दर्भ व्यक्ति की नियुक्ति भी की जा सकती है जिसका सीधा संबंध स्थापित होने वाले एन्टी नारकोटिक्स निदेशालय से हो।
बैठक में सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के निदेशक श्री पुरूषोत्तम शर्मा सहित स्कूल शिक्षा तथा पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here