गौमाता के कल्याण के लिए 9 लाख 19 हजार की रुपयों की आर्थिक सहायता सौंपी

मीनेश चंद्र मीणा
हैलो सरकार न्यूज़ ब्यूरो
बस्सी । जयपुर जिले के तहसील बस्सी के ग्राम महादेवपुरा स्थित कामधेनु गौशाला में दनाऊ कलां निवासी प्रख्यात गरुड़ पुराण कथा वाचक रमेश चन्द शास्त्री ने कथा वाचन से प्राप्त धनराशि गौशाला हेतु बहुत बड़ी पूंजी दान कर दी।
गौरतलब है कि रमेश शास्त्री अपने कथा वाचन से कथाओं से एकत्र कर 9 लाख 19 हजार 385 रुपये गोपाष्टमी के पावन पर्व पर मंगलवार को भेंट किए। कथावाचक रमेश शास्त्री के लिए ग्रामीणों ने कहा कि अपना सम्पूर्ण जीवन न्योछावर गोशाला के लिए समर्पित कर रखा है। ये कथाए कर गाड़ी का पेट्रोल भी अपना जलाकर गौशाला के लिए चंदा इकट्ठा कर कामधेनु गौशाला महादेवपुरा को हर वर्ष भेंट करते है।
इस शुभ अवसर पर गौशाला समिति के सदस्य व प्रधानाचार्य शिवशंकर प्रजापति ने हैलो सरकार को जानकारी देते हुए बताया कि गरुड़ पुराण कथा वाचक रमेश शास्त्री ने गरुड़ पुराण कथा से प्राप्त 9 लाख 19 हजार 385 रुपये की राशि गौशाला द्वारा आयोजित पांच दिवसीय श्रीराम गौ कथा के समापन समारोह में गौ संरक्षण एवं संवर्धन के लिए अर्पित की है।

श्रीराम गौ कथा राजस्थान सरकार के वंशावली संरक्षण एवं संवर्धन अकादमी के अध्यक्ष (राज्य मंत्री) महाराज रामसिंह राव द्वारा की गई।


इसी भांति पिछले वर्ष भी इन्होंने 11 लाख 43 हजार रुपए की राशि भेंट की थी। राशि भेंट करते हुए गौभक्त रमेश शास्त्री ने कहा कि मैंने तो एक डाकिया का काम किया है यह राशि तो गरुड़ पुराण की कथा पर गोभक्तो द्वारा चढ़ाई गई भेंट एवं यजमान द्वारा चढ़ाई गई दक्षिणा से एकत्र की गई है। यह राशि राज्यमंत्री रामसिंह राव,अध्यक्ष रामेश्वर प्रसाद शर्मा, शिवशंकर प्रजापत,कोषाध्यक्ष लक्ष्मीनारायण बैरवा,ओमप्रकाश शर्मा,भंवरलाल प्रजापत,महावीर जैन, सीताराम जाट टोंक, नंदलाल गुर्जर की मौजूदगी में गो पूजा अर्चना कर भेंट की।गौशाला समिति ने शास्त्री का सम्मान करते हुए आभार व्यक्त किया।
राज्य मंत्री ने की श्रीराम गौ कथा-
पांच दिवसीय श्रीराम गौ कथा राजस्थान सरकार के वंशावली संरक्षण एवं संवर्धन अकादमी के अध्यक्ष (राज्य मंत्री) महाराज रामसिंह राव द्वारा की गई।ग्रामीणों ने बताया कि महाराज राजनीति में होते हुए भी आज भी भगवान के प्रति पूर्ण रूप से समर्पण है। महाराज ने व्यास पीठ से लोगो से कहा कि गौमाता की सेवा कभी भी व्यर्थ नही जाएगी। साथ ही राज्यमंत्री ने कहा कि शास्त्री जी का निस्वार्थ भाव से इतना बड़ा समर्पण सराहनीय है। इस युग मे ऐसे लोग मुश्किल ही मिल पाते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here