आयकर विभाग ने देश के चार राज्यों में एक साथ की छापेमारी, कारोबारियों में मचा हड़कंप

रवि प्रकाश जूनवाल
हैलो सरकार ब्यूरो प्रमुख


कोटपूतली/जयपुर। आयकर विभाग ने बुधवार के सुबह देश के चार राज्यों में एक साथ छापेमारी की। राजस्थान सहित दिल्ली, उत्तराखंड और महाराष्ट्र में विभाग ने रेड की है। मिड-डे मील की सप्लाई में गड़बड़ी को लेकर इस छापेमारी में विभाग के हाथ राजस्थान के गृह राज्यमंत्री राजेंद्र यादव तक भी पहुंचे हैं। मंत्री और उनके रिश्तेदारों के यहां सुबह से ही टीमें सर्च कर रही हैं। छापों को लेकर यादव ने कहा कि हमारा मिड डे मील से कोई लेना देना नहीं है। लेकिन जांच होने पर सच्चाई सामने आ जाएगी।
गौरतलब है कि मंत्री और उनके रिश्तेदारों की कंपनी की कोटपूतली स्थित राजस्थान फ्लेक्सिबल पैकिंग फैक्ट्री सहित अन्य ठिकानों पर कार्रवाई चल रही है। गृह राज्यमंत्री राजेंद्र यादव इस कंपनी के डायरेक्टर हैं। कम्पनी के प्रबंधक मधुर यादव है। मधुर यादव राज्यमंत्री राजेंद्र यादव का बड़ा बेटा है।

जयपुर बनीपार्क घीया मार्ग पर गृह राज्य मंत्री राजेंद्र यादव का निजी आवास


यादव और उनके रिश्तेदारों के 50 से ज्यादा ठिकानों पर विभाग के अधिकारियों के साथ बड़ी संख्या में सीआरपीएफ के जवान भी मौजूद हैं। बुधवार सुबह करीब साढ़े 5 बजे विभाग की टीमें मंत्री के जयपुर और कोटपूतली के ठिकानों पर पहुंची। यादव कोटपूतली (जयपुर) से विधायक हैं।
यहां उनके रिश्तेदारों की एक फैक्ट्री पर भी छापा मारा गया है। बताया जा रहा है कि फैक्ट्री में मिड-डे मील सप्लाई के लिए कट्‌टे बनाए जाते हैं। कार्रवाई में लगभग 100 वाहनों का भी इस्तेमाल किया गया है। इनकम टैक्स ने जयपुर में मंत्री के बेटों के घर सहित उत्तराखंड, गुड़गांव में भी छापा मारा है।
मंत्री के घर, ऑफिस पर भी रेड
कलेक्ट्रेट सर्किल के पास जयपुर में राज्यमंत्री यादव के सिविल लाइंस स्थित सरकारी घर और बनीपार्क के निजी आवास सहित मालवीय नगर के ऑफिस में भी इनकम टैक्स के अधिकारी पहुंचे हैं। आयकर विभाग के ऑपरेशन से अन्य कारोबारियों में भी हड़कंप मच गया है। सूत्रों ने बताया है कि यह छापेमारी मिड- डे मिल और पौष्टिक आहार बनाने वाले निर्माता, सप्लाई करने वालों, उनके सहयोगियों और परिचितों के यहां की जा रही है।

ग्राम पिथड, तहसील कोटखावदा, जिला जयपुर में स्थित है गृह राज्य मंत्री राजेंद्र यादव की फैक्ट्री


आयकर विभाग की जयपुर में निर्माता और सप्लायर के घर, फैक्ट्री, कार्यालय, गोदामों और कोटपूतली में सहयोगियों के ठिकानों पर जांच चल रही है। यह मामला 2018 का बताया जा रहा है। विभाग को मिली जानकारी के अनुसार ठेके लेकर घोटाला किया जा रहा था। इसमें तत्कालीन राज्य सरकारों का हाथ रहा है जिसकी एवज में राजनैतिक फंडिंग की जाती ही है।
मंत्री यादव बोले- मिड डे मिल से हमारा कोई संबंध नहीं
छापों को लेकर राजेंद्र यादव ने कहा कि इनकम टैक्स जांच करे, इसमें मुझे कोई आपत्ति नहीं है। मेरे पिताजी के समय से 1950 से हमारा कारोबार है। कभी कोई गलत काम नहीं किया, हमने साफ सुथरा काम किया है।
यादव ने कहा कि आयकर की कारवाई में कोई राजनीतिक दुर्भावना होगी तो वह भी सामने आ जाएगी। पॉलिटिकल फंडिंग से नाम जोड़ना गलत है। हमारा पैकेजिंग का काम है। मिड डे मील से कोई हमारा संबंध नहीं है, हम कट्टे और पैकेजिंग समान बनाते हैं। यहां से कट्टे जाने के बाद उसमें कोई क्या भरता है, इसके लिए हम जिम्मेदार नहीं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here