लोकतंत्र की पूंजी होती है संसद एवं विधान सभाएं – उपराष्ट्रपति

कजोड़ मल मीणा


जयपुर : उपराष्ट्रपति श्री जगदीप धनखड़ ने कहा कि संसद एवं विधानसभाओं का कार्य स्वस्थ लोकतंत्र की पूंजी हैं। यह संस्थाएं प्रमाणिक रूप से लोगों की इच्छाओं के साथ-साथ उनकी आकांक्षाओं को भी पूरा करती है। श्री धनखड़ मंगलवार को राजस्थान विधानसभा में उनके अभिनन्दन पर आयोजित समारोह को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। समारोह मेें विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सी.पी. जोशी, मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत, प्रतिपक्ष के नेता श्री गुलाब चन्द कटारिया सहित सदस्यगण उपस्थित रहें।

उपराष्ट्रपति श्री जगदीप धनखड़ ने कहा कि संसद एवं विधानसभाओं का कार्य स्वस्थ लोकतंत्र की पूंजी हैं। यह संस्थाएं प्रमाणिक रूप से लोगों की इच्छाओं के साथ-साथ उनकी आकांक्षाओं को भी पूरा करती है।


श्री धनखड़ ने कहा कि वर्तमान में सदस्यों द्वारा विधानसभाओं एवं संसद में किए जा रहे अमर्यादित आचरण पर चिंता व्यक्त करते हुए अनुरोध किया वे संविधान की मूल भावना को समझें और अनुशासित रहें। श्री धनखड ने जवाबदेही एवं पारर्दिशिता को संसद एवं विधानसभाओं के प्रमुख कार्य बताया और कहा कि सदस्य सदन का उपयोग विचार व्यक्त करने के लिए करें। साथ ही उन्होंने कहा कि राज्य के तीन अंगों- विधायिका, कार्यपालिका एवं न्यायपालिका- में से कोई भी एक-दूसरे से बढ़ा नहीं है, यह सभी संविधान के अधीन आते है।

समारोह मेें विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सी.पी. जोशी, मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत, प्रतिपक्ष के नेता श्री गुलाब चन्द कटारिया सहित सदस्यगण उपस्थित रहें।


कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए डॉ. जोशी ने कहा कि पूरे सदन को इस पर गर्व है कि उप राष्ट्रपति श्री धनखड़ इस विधानसभा के सदस्य रहें है। राजस्थान से स्व. श्री भैरोसिंह शेखावत के बाद वे दूसरे ऎसे व्यक्ति है जिन्होंने उपराष्ट्रपति पद को सुशोभित किया है। इस अवसर पर श्री जोशी ने श्री धनखड़ की केन्द्रीय मंत्री, विधायक एवं राज्यपाल के रूप में किये गये कार्यों को भी याद किया। उन्होंने कहा कि श्री धनखड़ ने संविधान में उल्लेखित राज्यपाल की भूमिका को मूर्तरूप देने का प्रयत्न किया और साथ ही में मंत्री और विधायक के रूप में सभी जिम्मेदारियों का पूर्ण रूप से निर्वहन भी किया है।
मुख्यमंत्री श्री गहलोत ने श्री धनखड़ को देश के दूसरे सर्वोच्च पद पर निर्वाचित होने पर हार्दिक बधाई दी और कहा कि यह हम सभी प्रदेशवासियों के लिए यह गर्व की बात है।
प्रतिपक्ष के नेता श्री कटारिया ने कहा कि राजस्थान विधानसभा के लिए स्र्वणिम दिन है कि इस सदन के सदस्य एवं इस धरती पर पले-बढ़े एक व्यक्ति ने उप राष्ट्रपति पद को प्राप्त किया है। किसान के घर जन्म लेने वाले व्यक्ति ने राज्य का सम्मान बढ़ाया है। इससे राज्य की 7 करोड जनता का गौरव भी बढ़ा है।
इससे पूर्व उप राष्ट्रपति का श्री जोशी ने पुष्पगुच्छ भेंट कर एवं श्री गहलोत ने सूत की माला पहनाकर विधानसभा परिसर में अगवानी की। विधानसभा पंहुचने पर उपराष्ट्रपति को गॉर्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here