रिफाइनरी का 55 प्रतिशत कार्य पूरा :: अब तक 22040 करोड रुपए हुए खर्च

रविप्रकाश जूनवाल
हैलो सरकार ब्यूरो प्रमुख
जयपुर : एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी का एक हजार मेट्रिक टन वजनी सबसे भारी और महत्वपूर्ण एकल उपकरण स्थापित कर दिया गया है। वहीं रिफाइनरी की लगभग सभी परियोजना फेसिलिटेशन गतिविधियों में तेजी लाते हुए कार्य में तेजी आई है। यह जानकारी शासन सचिवालय में एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी के संचालक मण्डल की वर्चुअली बैठक में दी गई। अतिरिक्त मुख्य सचिव माइंस एवं पेट्रोलियम डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि रिफाइनरी का भौतिक प्रगति के रुप में 55.10 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका हैं वहीं अब तक 63 हजार 318 करोड़ रु. के कार्यादेश जारी किए जा चुके है।
उन्हाेंने बताया कि राजस्थान रिफाइनरी पर 15 अक्टूबर तक 22040 करोड़ रुपए व्यय हुए हैं। संचालक मण्डल की बैठक में निदेशक रिफाइनरी श्री एस. भारतन, सीईओ एचआरआरएल श्री कमलाकर विखर, सीईओ श्री उमेश अग्रवाल और कंपनी सचिव श्री वी मुरली ने सचिवालय से हिस्सा लिया जबकि रिफाइनरी के चेयरमैन श्री पुष्प जोशी ने वचुर्अली हिस्सा लिया।

अतिरिक्त मुख्य सचिव माइंस एवं पेट्रोलियम डॉ. सुबोध अग्रवाल ने निदेशक रिफाइनरी श्री एस. भारतन, सीईओ एचआरआरएल श्री कमलाकर विखर, सीईओ श्री उमेश अग्रवाल और कंपनी सचिव श्री वी मुरली को निर्देश देते हुए


एसीएस माइंस व पेट्रोलियम डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी राज्य सरकार का ड्रीम प्रोजेक्ट होने के साथ ही इस रिफाइनरी के आरंभ होने से राजस्थान का इकोनोमिक सिनेरियों ही बदल जाएगा। क्योंकि रिफाइनरी के साथ ही पेट्रोकॉम्प्लेक्स विकसित हो रहा है जहां सहउत्पादाेंं की इकाइयां स्थापित हो सकेगी और इससे निवेश व रोजगार के अतिरिक्त नए अवसर विकसित होंगे। उन्होंने बताया कि रिफाइनरी परिसर में एक हजार मैट्रिक टन के एकल उपकरण को पहुंचाया जाना चुनौती भरा कार्य होने के बावजूद दस महीनों की 558 किलोमीटर की दूरी तय करके इस उपकरण को रिफाइनरी तक पहुंचाने के साथ ही सफलता पूर्वक स्थापित भी करना बड़ी उपलब्धी है।
डॉ. अग्रवाल ने बताया कि एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी की सभी 13 मैकेनिकल इकाइयों का कार्य रोडमेप के अनुसार चल रहा है। रिफाइनरी क्षेत्र में आवश्यक आधारभूत सुविधाएं यथा अस्पताल, स्कूल, रोड, प्लांटेशन व इसी तरह के अन्य कार्य भी प्रस्तावित है जिससे क्षेत्रवासियों को बेहतर आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध हो सकेगी। उन्होेंने रिफाइनरी के अधिकारियों को कहा कि गुणवत्ता पर बल देते हुए रिफाइनरी का कार्य तय समय सीमा में पूरा किया जाए।
एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी के चेयरमैन श्री पुष्प जोशी ने बताया कि रिफाइनरी का कार्य ने गति पकड़ ली है और सभी प्रमुख प्रोसेस इकाइयों और पैकेजेज के लिए 38 एलएसटीके आदेश जारी किए जा चुके हैं। उन्होेंने बताया कि सभी 13 प्रोसेस इकाइयों का काम में तेजी से लोने के साथ ही गुणवत्ता पर बल दिया गया है।
निदेशक रिफाइनरी श्री एस. भारतन, सीईओ एचआरआरएल श्री कमलाकर विखर, सीईओ श्री उमेश अग्रवाल और कंपनी सचिव श्री वी मुरली ने बताया कि रिफाइनरी के तीनों क्रास कन्ट्री पाइपलाईनों यथा पानी की पाइपलाईन, क्रूड ऑयल की पाइपलाईन और अरब मिक्स क्रूड ऑयल की पाइपलाईन का निर्माण कार्य जोरो से जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here