चिड जाते हैं ग्रामीण विकास के नाम से ! 10 साल से इंतजार कर रही है सड़क मरम्मत का !!…

रवि प्रकाश जूनवाल
हैलो सरकार ब्यूरो प्रमुख


बस्सी। क्षेत्र के ग्राम बिराजपुरा स्थित 33 केवी जीएसएस के पास से तूंगा, भाडोती सड़क को जोड़ने वाली लिंक सड़क को बने एक दशक से अधिक समय हो गया। सड़क की समय-समय पर रखरखाव व मरम्मत नहीं होने से सड़क मार्ग क्षतिग्रस्त हो गया है। जिससे इस सड़क मार्ग पर पड़ने वाले गांव व ढाणीवासियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। स्थानीय निवासियों ने बताया कि कई वर्षों से क्षतिग्रस्त सड़क पड़ी हुई है, लेकिन इस सड़क को मरम्मत करने को लेकर कोई जनप्रतिनिधि या फिर कोई विभाग जहमत नहीं उठा रहा है।

बस्सी के ग्राम बिराजपुरा में क्षतिग्रस्त सड़क में भरे पानी में से गुजरते ग्रामीण


हिचकोले खाते चलते वाहन…
ग्रामीणों ने बताया कि सड़क 2 किलोमीटर दूरी तक है। क्षतिग्रस्त सड़क आधा दर्जन से अधिक ढाणीयों को जोड़ती है। सड़क पर वाहन हिचकोले खाते हुए चलते हैं। वाहन चालक इन गड्ढों में गिरकर चोटिल हो रहे हैं। कई मर्तबा तो उन्हें अस्पताल की राह देखनी पड़ रही है। सबसे अधिक परेशानी बारिश के दिनों में होती है। हल्की बारिश में भी गड्ढों में पानी भर जाता है। वाहन चालक इन गड्ढों की गहराई का अनुमान नहीं लगा पाते और गड्ढों में गिरकर चोटिल हो जाते हैं। जिससे उनको समय और आर्थिक नुकसान झेलना पड़ता है। ग्रामीणों ने प्रशासन से क्षतिग्रस्त सड़क की मरम्मत करवाने की मांग की है।

बिराजपुरा स्थित 33 केवी जीएसएस के पास से तूंगा, भाडोती सड़क को जोड़ने वाली लिंक सड़क को बने एक दशक से अधिक समय हो गया


पदवेश हाथ में लेकर चलने को विवश…
ग्रामीणों ने बताया कि इस सड़क मार्ग पर पानी भर जाने से जूते चप्पलों को भी हाथों में लेकर जाना पड़ता है। जूते चप्पल पानी से भरे कीचड़ के ही चिपक जाते हैं। जिससे वे टूट जाते हैं। इससे बचने के लिए पैदल यात्री जूते चप्पल भी हाथों में लेकर चलना पड़ता है। ग्रामीणों ने बताया कि कई मर्तबा प्रशासन व जनप्रतिनिधियों को अवगत कराने के बाद भी क्षतिग्रस्त सड़क की मरम्मत या नवीनीकरण नहीं किया गया। उनकी इस समस्या की उपेक्षा की जा रही है। जिससे ग्रामीणों में रोष व्याप्त है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here